कमलनाथ के करीबियों पर आयकर विभाग की छापेमारी आज भी जारी, बढ़ा सियासी पारा - Indiarox
  • Home
  • Business
  • कमलनाथ के करीबियों पर आयकर विभाग की छापेमारी आज भी जारी, बढ़ा सियासी पारा
Business

कमलनाथ के करीबियों पर आयकर विभाग की छापेमारी आज भी जारी, बढ़ा सियासी पारा

Indiarox

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के करीबियों के 50 ठिकानों पर रविवार को शुरू हुई आयकर विभाग कार्रवाई आज भी जारी है। रविवार तड़के 3 बजे शुरू हुई इस कार्रवाई के कारण प्रदेश से लेकर देश की राजनीति गर्म हो गई है। कांग्रेस ने इसे बदले की भावना से की गई कार्रवाई करार दिया है। वहीं भाजपा ने पलटवार करते हुए मुख्यमंत्री कमलनाथ पर निशाना साधा है।

यह कार्रवाई कमलनाथ के ओएसडी प्रवीण कक्कड़, सलाहकार रहे आरके मिगलानी, रिश्तेदार रतुल पुरी, दीपक पुरी और मोजरबियर व अमिरा कंपनी के भोपाल, इंदौर, दिल्ली और गोवा स्थित ठिकानों पर की गई। भोपाल में प्लेटिनम प्लाजा स्थित प्रतीक जोशी के घर से 9 करोड़ रुपये नकद बरामद हुए हैं। हालांकि आयकर विभाग ने इसकी आधिकारिक जानकारी नहीं दी है।

सूत्रों के अनुसार, आयकर विभाग के करीब 300 अधिकारियों-कर्मचारियों की टीम ने गोपनीय अंदाज में एक साथ कार्रवाई की। इसकी भनक स्थानीय पुलिस और आयकर विभाग को भी नहीं लगने दी गई। केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल और दिल्ली की आयकर विभाग की टीम ने इसे अंजाम दिया। यहां तक वाहन भी हरियाणा की नंबर प्लेट वाले इस्तेमाल किए गए।

तीन दशकों से कमलनाथ का काम संभाल रहे मिगलानी 

आरके मिगलानी विगत तीन दशकों से भी ज्यादा वक्त से कमलनाथ का पूरा काम संभाल रहे हैं। कमलनाथ ने मुख्यमंत्री बनते ही उन्हें अपना सलाहकार नियुक्त किया था लेकिन चुनाव आचार संहिता के चलते इस्तीफा देना पड़ा। हालांकि वह कमलनाथ के सहयोगी की भूमिका में अब भी हैं।

कमलनाथ के ओएसडी हैं कक्कड़

प्रवीण कक्कड़ पूर्व पुलिस अधिकारी हैं। उन्हें राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित भी किया गया था। 2004 में नौकरी छोड़कर वह कांग्रेस नेता कांतिलाल भूरिया के ओएसडी बने। दिसंबर 2018 में कमलनाथ के ओएसडी बन गए। बताया जा रहा है कि नौकरी में रहते हुए उनके खिलाफ कई मामले सामने आए, जिनकी जांच चल रही है।

प्रवीण कक्कड़ के सीए ने कहा यह

प्रवीण कक्कड़ के सीए ने कहा “छापेमारी में जो भी गहने पाए गए हैं उसकी प्रमाणिकता जांची जा रही है। उनके द्वारा अर्जित किए गए गहनों के पुख्ता प्रमाण हैं। वैल्थ टैक्स फाइल करते समय इन सभी का उल्लेख किया गया है। आयकर विभाग को इन गहनों से संबंधित कागजात सौंप दिए गए हैं।”

YOU MAY ALSO LIKE OUR FACEBOOK PAGE FOR TRENDING VIDEOS AND FUNNY POSTS CLICK HERE AND LIKE US AS INDIAROX

 

Related posts

Inflection point: RBI first policy increase in four years must be complemented by fiscal prudence

spyrox

उम्र 21 साल और रखी हैं 20 महंगी कारें, 16 साल में ही करोड़पति बन गया था यह लड़का

spyrox

SUPER 30 की हकीकत: गरीबों का दर्द बेचकर एेसे होती थी धोखेबाजी, जानिए

spyrox

Leave a Comment