पाकिस्‍तान से आई गीता की शादी की तैयारी, दूल्‍हे को मिलेगा घर और सरकारी नौकरी ऐसा क्यों - Indiarox
  • Home
  • Politics
  • पाकिस्‍तान से आई गीता की शादी की तैयारी, दूल्‍हे को मिलेगा घर और सरकारी नौकरी ऐसा क्यों
Politics

पाकिस्‍तान से आई गीता की शादी की तैयारी, दूल्‍हे को मिलेगा घर और सरकारी नौकरी ऐसा क्यों

पाकिस्तान से साल 2015 में भारत लौटने वाली मूक-बधिर युवती गीता के परिवार का अब तक पता नहीं चल सका है. इस बीच, उसके लिए दूल्‍हे की तलाश तेज हो गई है. फेसबुक पर एक एनजीओ ने उसकी शादी के लिए एक ऐड पोस्‍ट किया था. ऐड पोस्‍अ किए जाने के 10 दिनों के अंदर 20 लोगों ने गीता के साथ सात फेरे लेने की इच्छा जताई है. ख़बरों की मानें तो शादी का पूरा खर्च विदेशा मंत्रालय उठाएगा. यही नहीं शादी के बाद दूल्‍हा-दुल्‍हन को रहने के लिए घर और लड़के को सरकारी नौकरी भी दी जाएगी.

मूक-बधिर समुदाय के अधिकारों के लिये काम करने वाले सामाजिक कार्यकर्ता ज्ञानेंद्र पुरोहित ने बताया कि विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से कुछ दिन पहले मुलाकात के बाद उन्होंने गीता के लिये योग्य वर की तलाश के मकसद से फेसबुक पर शादी का ऐड पोस्‍ट किया है. इस ऐड को ‘रीयूनाइट गीता, ए डेफ गर्ल, विद फैमिली’ नाम के पुराने फेसबुक पेज पर पोस्ट किया गया है.

geeta

उन्होंने बताया कि इस ऑनलाइन ऐड के आधार पर अब तक लगभग 20 लोगों ने बाकायदा अपने बायोडेटा के साथ गीता से शादी का प्रपोजल भेजा है, जिनमें मंदिर का पुजारी और लेखक शामिल हैं. इनमें आठ युवक सामान्य हैं यानी वे गीता की तरह विशेष जरूरतों वाले नहीं हैं. पुरोहित ने बताया कि गीता से शादी के इच्छुक लोगों की जानकारी उचित छानबीन के बाद विदेश मंत्रालय भेजी जा रही है.

फेसबुक पेज पर10 अप्रैल को पोस्ट हुए इस ऐड में गीता को ‘भारत की बेटी’ बताया गया है. इसमें कहा गया है कि इस युवती के लिए 25 साल से ज्यादा उम्र के मूक-बधिर वर की जरूरत है जो नेक और स्मार्ट हो.

इश्तेहार में साफ किया गया है कि गीता अपने लिए अपनी मर्जी से दूल्‍हा चुनेगी. इसके बाद भारत सरकार इस सिलसिले में उचित कदम उठाएगी.

आपको बता दें क‍ि फ‍िलहाल गीता मध्यप्रदेश सरकार के सामाजिक न्याय और नि:शक्त कल्याण विभाग की देख-रेख में इंदौर की गैर सरकारी संस्था “मूक-बधिर संगठन” के हॉस्‍टल में रह रही है. सरकार उसके माता-पिता की खोज में जुटी है.

पिछले ढाई साल के दौरान देश के अलग-अलग इलाकों के 10 से ज्यादा परिवार गीता को अपनी लापता बेटी बता चुके हैं. लेकिन सरकार की जांच में इनमें से किसी भी परिवार का इस मूक-बधिर युवती पर वल्दियत का दावा फिलहाल साबित नहीं हो सका है.

गौरतलब है कि गीता सात-आठ साल की उम्र में पाकिस्तानी रेंजर्स को समझौता एक्सप्रेस में लाहौर रेलवे स्टेशन पर मिली थी. गलती से सरहद पार पहुंचने वाली इस मूक-बधिर लड़की की वापसी भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के विशेष प्रयासों की वजह से हुई थी. गीता 26 अक्तूबर 2015 को स्वदेश लौटी थी.

 YOU MAY ALSO LIKE OUR FACEBOOK PAGE FOR TRENDING VIDEOS AND FUNNY POSTS CLICK HERE AND LIKE US AS INDIAROX

Related posts

मैं आशा करता हूँ कि मोदी फिर से प्रधानमंत्री बनें : मुलायम सिंह यादव

indiarox

चुनाव कर्नाटक के लिए कांग्रेस के घोषणा पत्र में क्या है खास देखिये ?

spyrox

BJP vs Congress in Manifesto: पढ़ें- दोनों बड़े दलों के घोषणा पत्र की तुलनात्मक रिपोर्ट

indiarox

Leave a Comment