Elena Cornaro Piscopia's 373rd Birthday: मजदूर की बेटी ऐसे बनी दुनिया की पहली PhD डिग्री धारक, जानें खास बातें - Indiarox
  • Home
  • World
  • Elena Cornaro Piscopia’s 373rd Birthday: मजदूर की बेटी ऐसे बनी दुनिया की पहली PhD डिग्री धारक, जानें खास बातें
World

Elena Cornaro Piscopia’s 373rd Birthday: मजदूर की बेटी ऐसे बनी दुनिया की पहली PhD डिग्री धारक, जानें खास बातें

Indiarox

Google Doodle On Elena Cornaro Piscopia: Google ने अपने होमपेज पर एलेना कोर्नारो पिस्कोपिया (Elena Cornaro Piscopia) का डूडल (Google Doodle) बनाया है. आज एलेना कोर्नारो पिस्कोपिया का आज 373वां जन्मदिन (Elena Cornaro Piscopia’s 373rd Birthday) है.

Google Doodle On Elena Cornaro Piscopia’s 373rd Birthday: गूगल (Google) ने अपने होमपेज पर एलेना कोर्नारो पिस्कोपिया (Elena Cornaro Piscopia) का डूडल (Google Doodle) बनाया है. आज एलेना कोर्नारो पिस्कोपिया का आज 373वां जन्मदिन (Elena Cornaro Piscopia’s 373rd Birthday) है. ऐसा कहा जाता है कि एलेना पहली महिला थीं जिन्होंने यूनिवर्सिटी से डिग्री प्राप्त की थी. एलेना ने 32 की उम्र में पीएचडी डिग्री प्राप्त की थी. उनका जन्म इटली के वेनिस में 5 जून 1646 को हुआ था. एलेना (Elena Piscopia) का शुरुआती जीवन काफी संघर्ष में रहा है. उनको दो वक्त के खाने के लिए काफी महनत करनी पड़ी. उनकी मां खेती करती थीं और भुखमरी से बचने के लिए वो काफी महनत करती थीं. जिसके बाद उनकी मां बड़े शहर चली गईं और वहां काम करने लगीं.

एलेना कोर्नारो पिस्कोपिया अपने माता-पिता की तीसरी संतान थीं. उनके पिता का नाम जियानबेटिस्टा कोर्नारो पिस्कोपिया था और मां का नाम जानेटा बोनी था.

एलेना के जन्म के बाद उनके माता-पिता ने शादी की. एलेना को बचपन से ही पढ़ाई का शौक था. जब वो 7 साल की थीं तो माता-पिता ने उनकी क्षमता को समझा और प्रीस्ट जियोवानी फैब्रिक की सलाह पर उन्हें बाहर पढ़ने भेज दिया.

7 की उम्र में ही एलेना ने लैटिन, ग्रीक, फ्रेंच और स्पेनिश भाषा सीख ली थी. र्ब्रू और अरबी में भी दक्षता हासिल करने के बाद उन्हें ‘ओराकुलम सेप्टिलिंगु’ की उपाधि दी गई.

एलेना कोर्नारो पिस्कोपिया को पढ़ाई के साथ-साथ संगीत में भी रुची थी. उन्होंने वीणा, वायलिन, हॉप्सिकॉर्ड और क्लाविकॉर्ड सीखा और बाद में जाकर अपनी धुन बनाईं. विज्ञान के क्षेत्र में उन्होंने अपना खूब नाम किया और दुनिया में अपनी पहचान बनाई.

26 जुलाई 1648 उनकी मृत्यु हो गई थी. जीवन के आखिरी सात सालों में उन्होंने बच्चों की पढ़ाई और चैरिटी में निकाल दिया

YOU MAY ALSO LIKE OUR FACEBOOK PAGE FOR TRENDING VIDEOS AND FUNNY POSTS CLICK HERE AND LIKE US AS INDIAROX

 

Related posts

Can US terminate Visa period for Pak nationals,Beginning with senior officials

indiarox

Eid Mubarak Live: देश भर में मनाई जा रही ईद, लोग एक-दूसरे को दे रहे बधाई

indiarox

India “Best” Trade Negotiators: Trump At White House Diwali Celebrations

indiarox

Leave a Comment