SC/ST एक्‍ट पर विरोध के सुर: बीजेपी सांसद सावित्री बाई फुले BSP से जुड़ने को तैयार, दलित MP करेंगे पीएम से मुलाकात - Indiarox
  • Home
  • Politics
  • SC/ST एक्‍ट पर विरोध के सुर: बीजेपी सांसद सावित्री बाई फुले BSP से जुड़ने को तैयार, दलित MP करेंगे पीएम से मुलाकात
Politics

SC/ST एक्‍ट पर विरोध के सुर: बीजेपी सांसद सावित्री बाई फुले BSP से जुड़ने को तैयार, दलित MP करेंगे पीएम से मुलाकात

 

उत्तर प्रदेश में बहराइच से बीजेपी सांसद सावित्री बाई फुले ने अब पार्टी के खिलाफ ही मोर्चा खोल दिया है.

उनका कहना है कि पार्टी में दलितों पिछड़ों के साथ इंसाफ नहीं हो रहा इसलिए वह एक अप्रैल को लखनऊ में रैली करेंगी. वह इस मुहिम में मायावती से भी जुड़ने को तैयार हैं. उधर, यूपी सरकार में सहयोगी दल के मंत्री ओम प्रकाश राजभर ने भी फिर सरकार के कामकाज़ से नाराज़गी जताई है.

एससी-एसटी एक्ट में बदलाव के सुप्रीम कोर्ट के फैसले को लेकर विपक्ष के साथ-साथ सरकार में भी खलबली है. सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले पर पुनर्विचार याचिका दाख़िल करने की अर्ज़ी को लेकर एनडीए के सभी दलित सांसद पीएम नरेंद्र मोदी से संसद में मुलाकात करेंगे. कांग्रेस भी सरकार से इस फ़ैसले पर पुनर्विचार याचिका देने की मांग कर रही है. वहीं राष्‍ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग आज राष्‍ट्रपति से मिलेगा और उसने पीएम मोदी से भी मिलने के लिए समय मांगा है.

वहीं मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) ने अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति( अत्याचार निवारण) अधिनियमके संबंध में सुप्रीम कोर्ट के हालिया फैसले पर केन्द्र सरकार से तत्काल पुनरीक्षण याचिका दायर करने की मांग की है.

Watch Video: AMERICAN PRESIDENT DONALD TRUMP CHOSE TO STAND WITH INDIAN PM NARENDRA MODI

माकपा पोलित ब्यूरो की ओर से जारी बयान में सुप्रीम कोर्ट के इस मामले में फैसले को एससी एसटी एक्ट को कमजोर करने वाला बताते हुये सरकार से इसके खिलाफ यथाशीघ्र पुनरीक्षण याचिका दायर करने का अनुरोध किया है. साथ ही पोलित ब्यूरो ने मामले की सुनवायी के दौरान इस कानून के प्रावधानों को कमजोर करने पर सरकारी वकील द्वारा कोई आपत्ति दर्ज नहीं करने की भी आलोचना की.

उल्लेखनीय है कि सुप्रीम कोर्ट ने अपने एक फैसले में एससी एसटी एक्ट के प्रावधानों का उल्लंघन करने वालों की तत्काल गिरफ्तारी के प्रावधान का दुरुपयोग होने का हवाला देते हुये गिरफ्तारी से पहले पुख्ता जांच करने की बात कही थी.

SC/ ST एक्ट के प्रावधानों पर सुप्रीम कोर्ट ने एक अहम फैसला सुनाया 

– आरोपों पर तुरंत गिरफ़्तारी नहीं

– पहले आरोपों की जांच ज़रूरी

– केस दर्ज करने से पहले जांच

– DSP स्तर का अधिकारी जांच करेगा

– गिरफ़्तारी से पहले ज़मानत संभव

– अग्रिम ज़मानत भी मिल सकेगी

– सरकारी अफ़सरों को बड़ी राहत

– सीनियर अफ़सर की इजाज़त के बाद ही गिरफ़्तारी

YOU MAY ALSO LIKE OUR FACEBOOK PAGE FOR TRENDING VIDEOS AND FUNNY POSTS CLICK HERE AND LIKE US AS INDIAROX

Related posts

Lok Sabha Elections 2019: BJP, Kangra’s tickets for Congress will be fast

indiarox

Namo Temple to PM Narendra Modi Opens in Gujarat on Sunday!

spyrox

क्या 2019 से पहले मायावती पर कसने वाला है शिकंजा ?

spyrox

Leave a Comment