शादी को लेकर लड़कियों में मन हैं ये 5 तरह के डर

0
194
Indiarox

हर किसी की ज़िंदगी में शादी एक अहम निर्णय होता है। शादी के बाद आपकी पूरी ज़िंदगी बदल जाती है और आपके फैसले सिर्फ आपके ना होकर दूसरों की सहमति के मोहताज बन जाते हैं। हमारी ज़िंदगी में शादी को बहुत ज़रूरी माना जाता है।

ये बात सच है कि शादी के बंधन में बंधने के बाद दो अनजान लोग हमेशा के लिए एक-दूसरे के हो जाते हैं और अपनी बाकी की पूरी ज़िंदगी एकसाथ बिताते हैं। ये रिश्‍ता प्‍यार, भरोसे, आपसी समझ और आपसी सहयोग का होता है। इन चीज़ों से वैवाहिक रिश्‍ते को सुखी और खुशहाल बनाया जा सकता है।

reasons-why-indian-woman-are-scared-marriage

समाज में विवाह को लेकर कई नियम बने हुए हैं और देखा जाता है कि महिलाओं के मन में शादी को लेकर डर रहता है। ऐसे कई कारण हैं जिनकी वजह से लड़कियों को शादी से डर लगता है। लेकिन भारतीय महिलाओं को शादी से डर क्‍यों लगता है?

विशेषज्ञों की मानें तो शादी से लड़कियों के डरने के अधिकतर कारण मनोवैज्ञानिक हैं लेकिन कई महिलाओं को इन्‍हें स्‍वीकार करने में दिक्‍कत आती है। इनमें से कुछ कारणों के बारे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं।

अपनी पहचान खोना

कई मामलों में लड़कियों को लगता है कि शादी के बाद उनकी अपनी पहचान खो जाएगी। इस वजह से भी वो शादी से डरने लगती हैं। महिलाओं की सोच पर इसका बहुत असर पड़ता है। कई महिलाएं किसी अनजान इंसान पर निर्भर होने से डरती हैं। अगर आप भी इस वजह से शादी से दूर भागती हैं तो आपको बता दें कि आपका ये डर निराधार है। ये एक मनोवैज्ञानिक कारण है जिसका आपके दिमाग पर बहुत असर पड़ता है।

ससुराल वालों के साथ रहना

Image result for girls

आजकल की मॉडर्न लड़कियां अपने पति और बच्‍चों के साथ एकल परिवार में रहना पसंद करती हैं। ऐसी परिस्थिति में ससुराल वालों के साथ रहने की सोचकर ही वो घबरा और डर जाती हैं। वहीं अरेंज मैरेज में मुश्किल और भी ज़्यादा तब बढ़ जाती है जब पति संयुक्‍त परिवार में रहता हो।

ज़्यादा ज़िम्मेदारियां

ऐसी बात नहीं है कि मॉडर्न महिलाओं को ज़िम्‍मेदारियां उठाने या निभाने में दिक्‍कत है बल्कि ये तो मानव स्‍वभाव है कि हम ज़्यादा ज़िम्‍मेदारियों से बचने के लिए दूरियां बनाने लगते हैं। ज़िम्‍मेदारियों का डर और बोझ भी महिलाओं के मन में शादी के प्रति डर पैदा करता है।

आज़ादी खोना

शादी से डरने के पीछे ये भी एक महत्‍वपूर्ण कारण है। वर्किंग महिलाओं और ज़्यादा कमाने वाली लड़कियों को शादी उनकी आज़ादी की दुश्‍मन लगने लगती है। लड़कियों को अपना घर ज़्यादा सुविधाजनक लगता है। अपने घर में कोई भी उनकी ज़िंदगी में दखलअंदाज़ी नहीं करता है। हालांकि, शादी के बाद सब कुछ बदल जाता है। ऐसी कई महिलाएं हैं जिन्‍हें लगता है कि शादी के बाद उनकी आज़ादी खो जाएगी और उन्‍हें अपने पति और परिवार के साथ रहना पड़ेगा।

आप भी इस बात से सहमत होंगे कि हमें अपने परिवार से जितना प्‍यार मिलता है उतना किसी और से नहीं मिलता। किसी अनजान शख्‍स से शादी करने पर मन में अपने परिवार से मिले प्‍यार और देखभाल को खोने का डर रहता है। ये भी एक मनोवैज्ञानिक कारण है जो लड़कियों को शादी करने से रोकता है। कई महिलाएं इन कारणों से शादी करने से बचती हैं। कई मौकों पर महिलाएं अपनी ज़िंदगी में कभी शादी ना करने का फैसला ले लेती हैं। दुनियाभर में आधुनिक समाज में ऐसी सोच बढ़ रही है

YOU MAY ALSO LIKE OUR FACEBOOK PAGE FOR TRENDING VIDEOS AND FUNNY POSTS CLICK HERE AND LIKE US AS INDIAROX

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here